Search amazon Product

Ad banner

कालीमिर्च के फायदे l घरेलु उपचार - स्वास्थ्य पत्रिका

काली मिर्च के फायदे, उपयोग तथा घरेलु उपचार हिंदी में, Black pepper benefits, uses and home remedies in hindi.

आयुर्वेद के अनुसार काली मिर्च की तासीर गर्म होती है। काली मिर्च में पैपरीन नामक तत्व पाया जाता है। इसे अंग्रेजी में 'black pepper' कहते है l काली मिर्च का वैज्ञानिक नाम Piper nigrum है l यह तत्व औषधीय गुणों से भरपूर है। यह घर में अधिकतर मसाले के रूप में उपयोग की जाती है l इसकी कीमत बाज़ार में 500 से 600 रूपये किलो है l हर प्रकार की सब्जी में काली मिर्च डालना लाभदायक है l

शहद और काली मिर्च खाने के फायदे, Benefits of eating honey and pepper

शहद और काली मिर्च खाने से बहुत फायदा होता है किसी भी प्रकार का जुकाम, खासी होने पर कालीमिर्च को शहद के साथ खाने से जुकाम खांसी ठीक हो जाती है l शहद और कालीमिर्च साथ में खाने से सुरीली आवाज़ मिलती है l किसी का गला बैठ गया हो या बहुत ख़राब आवाज़ को कालीमिर्च सुरीली आवाज़ में बदल देती है l इसके अलावा कालिमिर्च और शहद का सेवन करने से पाचन तंत्र सुधरता है l त्वचा पर निखार आता है l 

काली मिर्च के घरेलु उपचार


काली मिर्च के घरेलु उपचार, Black Pepper Home Remedies

आधे सीर का दर्द (आधासीसी) - आधे सीर का दर्द हो तो 12 ग्राम काली मिर्च चबा चबा कर खाये और ऊपर से 30 ग्राम देसी घी पीये l आधे सीर का दर्द ठीक हो जायेगा l

ज्वर का घरेलु इलाज - (1) यदि ज्वर में उबासी, आलस जाम्हाईया आती हो, शरीर में दर्द हो, दुर्बलता और कंपन्न हो तो सुबह शाम 20 काली मिर्च पीस कर एक गिलास पानी में उबाले l चौथाई पानी रहने पर कुनकुना गर्म पिलाये l ज्वर उतर जायेगा l

(2) पांच काली मिर्च, पांच तुलसी के पत्ते, एक लौंग, जरासी अदरक, एक इलाइची सबको चाय के साथ उबालकर रोज दिन में तिनबार पिलाने से ज्वर और कफ ठीक हो जायेगा l

कफ का देसी उपचार - 30 कालीमिर्च पिसकर दो कप पानी में उबाले चौथाई पानी रहने पर छान कर एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह शाम पिलाये l

10 काली मिर्च, 15 तुलसी के पत्ते पिसकर शहद में मिलाकर रोज दिन में तीन बार चाटने से गले में जमा बलगम, कफ बहार निकलकर गला साफ हो जाता है l

गैस (Acidity) की समस्या - 10 पीसी हुई कालीमिर्च फांक कर ऊपर से गर्म पानी में नींबू निचोड़ कर सुबह शाम पीते रहने से गैस की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है l

दस काली मिर्च एक गिलास पानी में उबाल कर पिए l गैस तथा खांसी में आराम मिलेगा l 

पेट की कृमि की समस्या - काली मिर्च एक ग्राम पीसकर छाछ या मैठ्ठे के साथ देने से पेट के कृमि दूर हो जाते है l

पेचिस Dysentery की समस्या हो तो 10 काली मिर्च पिसकर पानी की फंकी लेने से खाने से लाभ होता है l

जुएँ, रुसी की समस्याएं - जुएँ, रुसी की समस्याएं हो तो 6 काली मिर्च 12 सीताफल के बीज पानी में पीसकर घी में मिलाकर रात को सीर में लगाए, सुबह सीर धो ले इससे जुएँ, रुसी की समस्या ख़त्म हो जाएगी l बाल अधिक बढ़ेंगे l पूरी सावधानी रखे की लगाते समय और धोते समय आंख में न जाये l सीर धोते समय आँख बंद रखे तथा बहुत सा पानी डालकर शीघ्र धोये l

खांसी का घरेलु इलाज, Home remedy for cough

(1) इसमें काली मिर्च और मिश्री मुँह में रखे इससे गला भी खुल जाता है l

(2) काली मिर्च और मिश्री सामान मता में पीस ले इसमें इतना ही घी मिलाये जिससे होली बन जाये l इस गोली को मुँह में रखकर चूसे l हर प्रकार की खांसी में लाभ होगा l

खांसी का इलाज

(3) दस दस काली मिर्च पीसकर शहद में मिलाकर सुबह शाम चस्ते l रात को कालीमिर्च और दूध गर्म करके पीये l

(4) पीसी हुई दस काली मिर्च एक चममच गर्म पानी में मिलाकर चाटने से खांसी ठीक हो जाती है l

(5) पांच काली मिर्च और चौथाई चम्मच पिसी हुई सोंठ एक चम्मच शहद में मिलाकर सुबह शाम चाटने से कफ वाली खांसी ठीक हो जाएगी l

(6) एक चम्मच पीसी हुई काली मिर्च 60 ग्राम गुड़ में मिलाकर गोलिया बना ले और सुबह शाम चूसे l इससे हर प्रकार की खांसी ठीक हो जाती है l

पित्ती - पित्ती होने पर पीसी हुई दस कालीमिर्च और आधा चम्मच घी में मिलाकर पीये तथा इन दोनों की ही शरीर पर मालिश करें l

सूजन - पांच काली मिर्च पोस कर चौथाई चम्मच माखन के साथ देने से बालको की सूजन दूर हो जाती है l

धातु पुष्ट करना - यदि धातु कमजोर हो गयी हो तो रात को 250 ग्राम दूध में 10 काली मिर्च डालकर गर्म करे l फिर ठंडा करके छानकर पहले उन काली मिर्च को खाकर ऊपर से दूध पीये l धातु पुष्ठ हो जाएगी l

स्मरण शक्ति बढ़ाना - 30 ग्राम मख्खन में 8 काली मिर्च और शक़्कर मिलाकर रोज चाटने से स्मरण शक्ति बढ़ती है l मस्तिष्क में तरावट आती है l कमजोरी दूर होती है l

सिर चकरना - 12 काली मिर्च कूट कर घी में तले घी नितार कर उसमे गेहूं का आटा सेंक कर गुड़ या शककर डालकर हलुवा बनाकर उसमे ताली हुई काली मिर्च डालकर सुबह शाम भोजन से पहले खाये l चक्कर आना बंद हो जायेगा l

मुँह के छाले का इलाज - 15 काली मोर्च और 30 किशमिश मिलाकर चबाने से मुँह के छाले ठीक हो जाते है l

दाद, खाज और खुजली - पांच ग्राम काली मिर्च पीसकर आधा चम्मच गाय के गई के साथ लेने से सब प्रकार की खुजली एवं विष का प्रभाव दूर हो जाता है l फुंसी होये ही उसपर काली मिर्च पानी में पीसकर लगाने से फुंसी बैठ जाएगी l गुहेरी, बालतोड़, फोड़े भी ठीक हो जाए है l

फुंसीयों का इलाज - काली मिर्च में पानी डालकर बहुत बारीक़ पीस ले l छोटी छोटी फुंसीयों में जब तक गांठ बानी रहे l रोज दो बार लेप करे l फूंसिया बैठ जाएगी l

हिचकी - एक कई मिर्च सुई में चुबोकेर सेक ले या जलाये और इसका धुआँ सुंघाये इससे हिचकी बांध हो जाती है l तथा सर-दर्द भी बंद हो जाता है l

मुहासे - 20 काली मिर्च गुलाबजल में पीसकर रात को चेहरे पर लगाए और प्रातः गर्म पानी से धोये l इससे कील, मुँहसे, झूरिया साफ होकर चेहरा साफ हो जायेगा l चेहरा चमकने लगेगा l

अग्निमाँध - काली मिर्च, जीरा, सेंधा नमक, सोंठ, पीपल, सब एक सामान भाग लेकर पीस ले l खाना खाने के बाद आधा चम्मच पानी से दिन में दो बार ले l खाना अच्छी तरह पचेगा l हजम होगा l

(2) यदि खाना नहीं पचता है तो टट्टी ढीली, आवयुक्त आती हो तो कालीमिर्च, सेंधानमक, अजवाइन, सूखा पोदीना, बड़ी इलाइची सामान भाग पीसकर एक- एक चम्मच दो बार खाने के बाद फंकी ले l

लिवर की कमजोरी, भूख कम लगना - नींबू के चार भाग करे पर टुकड़े अलग ना हो, एक में  नमक, एकम में  कालीमिर्च, एक मे सोंठ और चौथे में मिश्री या शककर लगा ले l रात को प्लेट में रखकर ढक दे l सुबह टावर पर गर्म कर चूसने से यकृत (लिवर) सही होगा, भूख बढ़ेगी l यह सबसे कारगर उपचार है l

बाल काले करना - जुखाम में बाल सफ़ेद हो जाये है यदि बाल जुखाम से सफ़ेद हो गए हो तो दस काली मिर्च रोज प्रातः भूखे पेट एवं शाम को चबा चबा कर निगल जाये l यह प्रयोग कमे से कम एक साल तक करे l यह "विद्या वाचस्पति डॉ आर त्रिवेदी" वैद्य, अलीगढ, का आजमाया हुआ प्रयोग है l

सुरीली आवाज़ - काली मिर्च दस ग्राम, मुलहठी दस ग्राम, मिश्री 20 ग्राम, इस अनुपात में लेकर इन सब को पिसकर चूर्ण बना ले l रोजाना सुबह शाम इस चूर्ण की एक चुटकी शहद के साथ ले l कुछ दिनों में आपकी आवाज़ का सुरीलापन बढ़ जायेगा l

पुरानी खांसी, नजला, और सिरदर्द आदि रोगों में भी यह उपचार करने पर बहुत फायदा होता है l

आवाज़ मधुर बनाने के लिए खाना खाने के बाद घी में काली मिर्च का चूर्ण व चीनी मिलाकर चाटे इससे लाभ मिलेगा l

जुकाम के लिए कालीमिर्च के 9 घरेलु नुस्खे, 9 9 home remedies for cold pepper.

(1) रात को दस काली मिर्च चबा चबा कर गर्म दूध पीये l इससे जुकाम में लाभ होगा l

जुकाम के घरेलु नुस्खे

(2) 6 ग्राम काली मिर्च पिसकर 30 ग्राम गुड़ या शक्कर और 60 ग्राम दही तीनो ko मिलाकर सुबह शाम पांच दिन सेवन करने से बिगड़ा हुआ जुकाम ठीक हो जाता है l फिर जुकाम नहीं लगता l

(3) काली मोर्चा और बतासे पानी में उबाल कर pine से जुकाम ठीक हो जाता है मस्तिष्क हल्का हो जाता है l

(4) जुकाम खांसी होने पर पीसी हुई कालीमिर्च और दुगना गुड़ दोनों मिलाकर गोलिया बना कर चार बार चूसने से लाभ मिलता है l

(5) एक बतासे में चार कालीमिर्च भर कर चबाकर पानी पीये l इस तरह चार बार लेने से जुकाम तीज हो जायेगा l

(6) जुकाम, खांसी, हल्का बुखार, शरीर में दर्द हो तो काली मिर्च और बतासे पानी में ओट कर गरमा गर्म पीने से लाभ होता है l पसीना आकर शरीर हल्का हो जाता है l

(7) जुकाम और सर्दी की खांसी हो तो कालीमिर्च पिसकर शहद में मिलाकर चाटे l जुकाम और सर्दी की खांसी में लाभ होगा l

(8) बार जुकाम लगता हो, छिके आती हो, हर समय जुकाम बना रहता हो तो प्रातः एक दिन एक काली मिर्च चबा कर खाये, ऊपर से गर्म दूध पीये l दूसरे दिन दो काली मिर्च चबा चबा कर खाये और गर्म दूध पीये l इस प्रकार रोज एक कालीमिर्च बढ़ाते हुए तीन सप्ताह तक ले l इसी प्रकार तीन सप्ताह तक रोज एक एक कालीमिर्च घटाते जाये l काली मिर्च से मुँह जले तो डरे नहीं l दूध में मीठा, शक्कर बुरा मिला सकते है l इस प्रकार 42 दिन में जुकाम ठीक हो जायेगा l

(9) सर्दी के मौसम जुकाम लगने पर दही में पीसी हुई काली मिर्च डालकर खाने से जुकाम ठीक हो जाता है l

गला बैठना - गला बैठने पर पीसी हुई काली मिर्च और घी मिलाकर भोजन करते समय पीने से लाभ होता है l

जी मचलना - काली मिर्च चबाने से मुँह का स्वाद ठीक हो जाता है जी नहीं मचलता l

आँखों की कमजोरी - आँखों की कमजोरी दूर करने के लिए घी, कालीमिर्च, और मिश्री मिलाकर चाटे l

पेट दर्द का उपचार - कालीमिर्च, हींग, सोंठ सामान मात्रा में पीस ले l आधा चम्मच सुबह शाम गर्म पानी से फंकी ले l

पागलपन के दौरे - 12 काली मिर्च, तीन ग्राम ब्राम्ही की पत्तियाँ पीसकर आधा गिलास पानी में छान कर रो दिन में दो बार पोये l 

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.