Search amazon Product

Best Amazon Product

हींग के फायदे तथा औषधीय गुण बताइये

चुटकी भर हींग स्वाद तथा सेहत का खज़ाना 

हर घर में हींग का सेवन किया जाता है। हींग हर घर के किचन में उपलब्ध होती है। चुटकी भर हींग खाने की खुशबू और स्वाद दोनों को बढ़ाती है। अचार की खुशबु और स्वाद बदल देती है l हींग स्वाद के साथ-साथ सेहत की भी खजाना है।

हींग खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता है, बल्कि इसमें कई औषधीय गुण होते हैं, जिससे ये कई बीमारियों में फायदेमंद होता है। हींग का इस्तेमाल पेट दर्द ,उल्टी, निमोनिया, कृमि और कब्ज जैसी समस्या को दूर करने में किया जाता है। आज हम स्वास्थ्य पत्रिका में आपको हींग के फायदे बताएँगे l

हींग के फायदे तथा औषधि गुण

शुद्ध हींग की पहचान

हींग में रंगा हुआ गोंद या राल मिला देते है शुद्ध हींग की पहचान है इसे पानी में घोल दे, पानी का घोल सफ़ेद हुआ तो हींग शुद्ध है l

अचार 

अचार में थोड़ी सी हींग अचार की खुशबू तथा जायका बदल देती है बर्तन में पहले हींग का धुआँ दे फिर उसमे अचार भरे इससे अचार घराब नहीं होता l

पेट दर्द का उपचार

गैस डकारे आने पर जिंजर को गर्म पानी में घोल कर नाभि के आसपास लेप करे तथा भुना हुआ हींग आधा ग्राम किसी भी चीज के साथ खाने से आराम होता है l इसके सेवन से भूख बढ़ती है l यदि पेट दर्द वायु रुकने से से हो तो द ग्राम हींग आधा किलो पानी में उबाले, चौथाई पानी रहने पर गर्म गर्म पीला दे l पेट दर्द ठीक हो जायेगा l

पसली दर्द का उपचार

हींग को पानी में घोलकर जिन पसलियों में दर्द हो रहा है वहाँ लेप करे l पसलियों का दर्द दूर हो जायेगा l

सीरदर्द का इलाज

सर्दी से सीर दर्द हो तो हींग गर्म पानी में घोलकर लगाए l आधे सीर का दर्द हो तो हींग को गर्म पानी में घोल कर सूंघने से आधे सीर का दर्द ठीक हो जाता है l

अपच का उपचार

(1) हींग, छोटी हर्र, सेंधा नमक, अजवाइन सभी सामान मात्रा में मिलाकर पीस ले l एक चम्मच नित्य तीन बार पानी से फंकी लेने से अपच ठीक हो जाता है l

(2) सेंकी हुई हींग और जीरा, सोंठ व सेंधा नमक मिलाकर चौथाई चम्मच गर्म पानी से फंकी ले l

डकार हिचकी का उपाय

डकार, हिचकी अधिक आती हो तो बाजरे के दाने के बराबर हींग गुड़ या केले में रखकर खाये l

कृमि का इलाज

छोटे बच्चों की गुडा में कृमि रेंगते हुए कभी कभी दिखाई देते है या बच्चे रोते है बताते है तो हींग को पानी में घोलकर रुई का फोया भिगोकर गुदा पर रखने से कृमि मर जाते है थोड़ी मात्रा में हींग खिलाने से कृमि (पेट के कीड़े) मर जाते है l

अफीम के विष का दुषप्रभाव

चार ग्राम हींग पानी में घोलकर पिलाने से अफीम का नशा उतर जाता है l

दाँत दर्द का उपचार

दांतो में कीड़े लगे हो दाँत दर्द हो रहा हो तो दर्द वाले दांतो के निचे हींग रखकर दांतो को दबा ले l बंद हो जायेगा l

पित्ती का उपचार

हींग को घी में मिलाकर मालिश करने से पित्ती में लाभ होता है l

निमोनिया का इलाज

बच्चों को निमोनिया, स्वांस आदि होने पर थोड़ा सा हींग पानी में घोलकर देने से लाभ होता है l कफ पतला होकर निकल जाता है दुर्गन्ध और कीटाणु नष्ट हो जाते है l

मासिक धर्म श्राव 

मासिक धर्म या श्राव कम आता हो तो हींग का सेवन बहुत लाभदायक है l

विष खा लेने हींग पानी में घोलकर पीला दे l इससे उलटी हो जाएगी और विष का प्रभाव कम हो जायेगा l

जुकाम का उपचार

हींग के घोल को सूंघने से नाक में जमा रिट (कफ) बाहर निकल जाता है और बदबू दूर हो जाएगी l

आवाज़ बैठना

जुकाम का पानी गले में गिरने या जलवायु परिवर्तन से आवाज बैठ जाये तो आधा ग्राम हींग गर्म पानी में घोलकर गरारे करें l आवाज़ थी हो जाएगी l

सुप्रसव, पीड़ा रहित प्रसव

एक बाजरे के दाने के बराबर हींग एक गुड़ के टुकड़े रखकर निगल जाये, दो घूंट से अधिक पानी न पीये शीघ्र ही प्रसव होगा और कष्ट रहित होगा l

हींग दुर्बल हृदय को शक्ति देता है रक्त को जमने से रोकता है रक्त संचार सरलता से करता है l

हींग सेवन से नुकसान तथा सावधानी

हींग की तासीर गर्म होती है l यकृत विकारी और गर्म प्रकृति वालों को हींग का सेवन सावधानी से करना चाहिए l 


कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.