Advertisement

header ads

लौंग खाने के फायदे और नुकसान - स्वास्थ्य पत्रिका

लौंग क्या है?

लौंग सदाबहार वृक्ष की सूखी हुई पुष्प कलिका है। लौंग का अंग्रेजी नाम- क्लोव (clove) है, साइंटिफिक नाम (वैज्ञानिक नाम - साईजीगियम एरोमेटिकम (Syzygium aromaticum है l लौंग एक प्रकार का मसाला है। इस मसाले का उपयोग भारतीय पकवानो मे बहुतायत मे किया जाता है। इसे औषधि के रूप मे भी उपयोग मे लिया जाता है। लौंग अग्नि को जगाने वाली पाचक है नेत्रों के लिए  हितकारी क्षय रोग का नाश करने वाली है l लौंग का गुण होता है ये दर्द दूर करती है l 
लौंग खाने के फायदे और नुकसान

लौंग का उपयोग 

लौंग आकर में बहुत छोटा होता है लेकिन इसके उपयोग बहुत बड़े बड़े कामो में किया जाता है l पूजा पाठ, तंत्र मंत्र, काला जादू या किसी अन्य पूजा पाठ में मसाले, तथा अनेक रोगों में लौंग तथा लौंग का तेल बहुत ही रामबाण औषधि है l 

लौंग के घरेलु नुस्खे तथा उपचार 

शुद्धता की पहचान - लौंग में अर्क निकली हुई लौंग मिला देते है l यदि लौंग में झाइयाँ पड़ी हो तो समझें कि अर्क निकली हुई लौंग है l अच्छी लौंग में झाइयाँ नहीं होती है l 

खांसी में लौंग का उपयोग - लौंग और अनार के छिलके समान मात्रा में पीसकर इसका चौथाई चम्मच शहद में मिलाकर रोज दिन में तीन बार चाटने से खांसी तीज हो जाती है l 

कुकर खांसी - दो लौंग आग में भूनकर शहद मिलाकर चाटने से कुकर खांसी ठीक हो जाती है l 

सिर-दर्द का इलाज - (1) लौंग को पीसकर लेप करने से सिरदर्द तुरंत बंद हो जाता है l इसका लेप भी लगाया जा सकता है l 
(2) पांच लौंग पीसकर एक कप पानी में मिलाकर गर्म करें, आधा पानी रहने पर छान कर चीनी मिलाकर पिलाये l शाम को और सोते समय दो बार लेते रहने से  सिरदर्द ठीक हो जाता है l 

गुहेरी (stye) - आँखों पर छोटी सी फुंसिया निकलने पर लौंग घिसकर लगाने से वे बैठ जाती है तथा सूजन भी उतर जाती है l ध्यान रहे लौंग आँखों में न लगे नहीं तो आँखों में जलन होंगी l 

स्वांस नली - लौंग मुँह में रखने से कफ आराम से निकलता है तथा कफ की दुर्गन्ध दूर हो जाती है l मुँह और स्वांस की दुर्गन्ध भी इससे मिटती है l लौंग और अनार के छिलके समान मात्रा में पीसकर चुटकी भर चूर्ण शहद से रोजाना दिन में तीन बार चाटने से खांसी ठीक हो जाती है l दो लौंग तवे पर रखकर सेक कर चूसे l इससे खांसी के साथ कफ (खखार/बलगम) आना बंद हो जाता है l 

हैजा - हैजा में लौंग का पानी बनाकर देने से प्यास कम लगती है और उलटी कम होकर पेशाब आता है l 

गर्भनी का वमन - दो लौंग पीसकर शहद के साथ गर्भनी को चटाये l गर्भावस्था की 'कै' (उलटी) बंद हो जायेगी l 

प्यास अधिक लगना - प्यास अधिक लगने पर उबलते पानी में लौंग डालकर उबाले l ठंडा होने पर पिलाये l इससे प्यास कम हो जायेगी l 

जी मचलाना - दो लौंग पीसकर आधा कप पानी में मिलाकर गर्म करके पिलाने से जी मचलना ठीक हो जाता है लौंग चबाने से भी ठीक हो जाता है l 

उलटी (vomiting) - 4 लौंग कूटकर एक कप पानी में उबाले आधा कप पानी रहने पर छान कर स्वाद के अनुसार मिठा मिलाकर पी कर करवट लेकर सो जाये दिन भर में ऐसे चार मात्रा ले उल्टिया बंद हो जायेगी l 

टाइफाइड भुखार (Typhoid fever) - टाइफाइड भुखार में लौंग का पानी पिलाये l पांच लौंग दो किलो पानी में आधा पानी रहने पर छान ले l इस पानी को दिन में तीन बार पिलाये l या फिर आप पानी भी उबाल कर ठंडा करके पिलाये l टाइफाइड में आराम मिलेगा l

बुखार (fever) - बुखार होने पर एक लौंग पीसकर गर्म पानी से फंकी ले l सामान्य भुखार ठीक हो जायेगा l 

नासूर - हल्दी और लौंग पीसकर लगाने से नासूर मिटता है l 

एसिडिटी - एसिडिटी में पाचन शक्ति ख़राब रहती है दाँत भी आयु से जल्दी गिर जाते है आंखे दुखने लगती है बार बार जुखाम लगता रहता है एसिडिटी से अनेक रोग होते है l एसिडिटी के रोगी को चाय नुकसान दायक है l

(1) खाना खाने के बाद एक-एक लौंग सुबह शाम खाने से या शरबत लेने से एसिडिटी से होने वाले सभी रोगों में लभ होता है और अम्लपित्त (एसिडिटी) तीज हो जाती है l 
(2) 15 ग्राम हरे आंवले का रस, पांच पीसी हुई लौंग, एक चम्मच शहद और एक चम्मच चीनी मिलाकर रोगी को पिलाये l कुछ ही दिनों में उम्मीद से बढ़कर लाभ होगा l 
अपच, गैस - दो लौंग पीसकर उबलते हुये पानी में डालें , फिर कुछ ठंडा होने पर पी जाये यह प्रयोग दिन में तीन बार ले अपच और गैस में आराम मिलेगा l जल्दी इस परेशानी से मुक्त हो जायेगे l 

दाँतो के रोगों का इलाज 

दाँत दर्द - (1) पांच लौंग पीसकर उसमे नींबू का रस निचोड़ कर दाँतो पर मलने से दाँत दर्द ठीक हो जाता है l 
(2) पांच लौंग पीसकर एक गिलास पानी में उबालकर रोजाना तीन बार कुल्ले करने से दाँत दर्द ठीक हो जाता है l 

दाँत दर्द का इलाज

दाँत रोग - (1) दाँत में कीड़ा लगने पर लौंग को रखना या लौंग का तेल लगाना चाहिए l पान खाने से जीभ कट गयी हो तो एक लौंग मुँह में रखने से जीभ ठीक हो जाती है l 
(2) लौंग का तेल में रुई की फुरेरी भिगोकर दाँत में रखने से दाँत दर्द मिट जाता है l 

स्पर्म संख्या बढ़ाना 

जिन पुरुषो में वीर्य में स्पर्म संख्या कम है या निष्क्रिय है उन लोगो को लौंग का पानी पीना चाहिए l दो बून्द लौंग का तेल 20 ml पानी में मिलाकर पीना चाहिए l पुरुष की स्पर्म संख्या बढ़ जायगी और वीर्य शुद्ध होगा l संतान का सुख भी प्राप्त होगा l यह उपचार राजीव दीक्षित जी द्वारा परीक्षित है l  

लौंग खाने से हो सकता है नुकसान 

(1) गर्भावस्था के समय लौंग का सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए क्योंकि लौंग की की तासीर गर्म होती है इससे गर्भवती गिरने का खतरा बना रहता है l
(2) मासिक धर्म का समय भी महिलाओं को लौंग से परहेज करना चाहिए l  

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां