Advertisement

header ads

खाली पेट सौंफ खाने के फायदे बताइये - स्वास्थ्य पत्रिका

सौंफ एक मसाला है हर घर में पाया जाता है l सौंफ को सामान्यतः भोजन के बाद माउथ फ्रेशनर के रूपये में किया जाता है l आइये जानते है सौंफ के सेहत के राज तथा सौंफ स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही गुणकारी है l सौंफ खाने के फायदे तथा घरेलु नुस्खे के बारे में जानते है l सौंफ को मिश्री के साथ तथा उबाल कर सौंफ का पानी पीने के बहुत फायदे होते है l 

खाली पेट सौंफ खाने के फायदे

पेचिश रोग से छुटकारा - (पेचिश में सौंफ और मिश्री खाने के फायदे)भुनी हुई सौंफ और मिश्री समान मात्रा में पीसकर हर दो घंटे से 6 बार दो दो चम्मच की ठन्डे पानी से फंकी लेने से मरोड़दार दस्त, आंव और पेचिश में लाभ होता है l 

आंव - सौंफ का तेल 5 बून्द आधा चम्मच चीनी पर डाल कर रोजाना चार बार लेने से आंव बंद हो जाती है l 

दस्त - यदि मरोड़ देकर थोड़ा थोड़ा दस्त आता हो तो 3 ग्राम कच्ची और 3 ग्राम भुनी हुई सौंफ मिश्री के साथ मिलाकर दे l दस्त बंद हो जायेंगे l 

छोटे बच्चों के पतले दस्त, पेचिश में 6 ग्राम सौंफ 80 ग्राम पानी में उबाले l ज़ब पानी आधा रह जाये तब उसमे एक ग्राम काला नमक डाल दे बच्चों को 12 ग्राम पानी दिन में तीन बार देने से बहुत लाभ होता है l 

सरलता से दाँत निकलना - बच्चों के दाँत निकलते समय यदि रोता हो तो गाय के दूध में मोटी सौंफ उबालकर, छान कर बोतल में भर ले, एक एक चम्मच चार बार पिलाये l इससे दाँत सरलता से निकल आएंगे l 

बच्चों की देखभाल

बच्चों का पेट फूलना - रात को एक चम्मच सौंफ आधा कप पानी में भिगो दे प्रातः सौंफ को मसलकर छान ले l इस पानी को दूध में मिलाकर पिलाने से बच्चों का पेट फूलना, गैस, और पेट दर्द ठीक हो जाता है l 

खुजली - सौंफ और धनिया समान मात्रा में पीस ले l इसमें डेढ़ गुना घी और दो गुना चीनी मिलाकर रखे l सुबह शाम 30-30 ग्राम खाये l हर प्रकार की खुजली में लाभ होगा l 

पेट का भारीपन - नींबू के रस में भीगी हुई सौंफ को भोजन के बाद खाने से पेट का भारीपन दूर होता है l भूख खूब लगती है तथा मल भी साफ होता है l 

नेत्रज्योति बढ़ाना - भोजन के बाद एक चम्मच सौंफ खाने से पाचन और नेत्रज्योति बढ़ती है तथा पेशाब खुलकर आता है l सौंफ पीस ले, रात को सोते समय आधा चम्मच सौंफ एक चम्मच शक़्कर मिलाकर दूध से फंकी ले l नेत्रज्योति बढ़ेगी l 

खांसी - दो चम्मच सौंफ, दो चम्मच अजवाइन आधा किलो पानी में उबालकर 2 चम्मच शहद मिलाकर छान ले l इसकी तीन चम्मच प्रति घंटा पिलाने से बच्चों की खानी दूर हो जाती है l

जुकाम - 15 ग्राम सौंफ और तीन लौंग आधा किलो पानी में उबाले, चौथाई पानी रहने पर देसी घी, बुरा या चीनी मिलाकर घूंट घूंट पीये l 

जुकाम का घरेलु उपचार

बुखार - तेज बुखार होने पर सौंफ पानी में उबालकर दो-दो चम्मच बार-बार पिलाते रहने से बुखार में ताप नहीं बढ़ता l 

बवासीर - सौंफ और मिश्री दोनों पीसकर आधा चम्मच की फंकी दूध के साथ ले l 

खुनी बवासीर - सौंफ, जीरा, धनिया प्रत्येक एक एक चम्मच दो कप पानी में उबाले आधा पानी रहने पर छानकर उसमे एक चम्मच देसी घी मिलाकर पिलाने से खुनी बवासीर में लाभ होता है l 

पेट दर्द - सौंफ और सेंधा नमक पीसकर दो दो चम्मच गर्म पानी से फंकी ले l पेट दर्द बंद हो जायेगा l 

मुँह के छाले - जिन लोगों के मुँह में छाले हमेशा होते रहते है वे खाने के बाद थोड़ी सौंफ खा लिया करें l इससे छाले होना बंद हो जायेंगे l 

पाचक - सौंफ और जीरा समान मात्रा में मिलाकर सेंक ले भोजन के बाद एक एक चम्मच रोज चबाये l 

गर्भपात (abortion) - गर्भधारण करने के बाद 60 ग्राम चूर्ण 30 ग्राम गुलाब का गुलकंद पीसकर पानी मिलाकर एक बार नित्य पिलाने से गर्भपात रुकता है l पुरे गर्भकाल में सौंफ का अर्क पीने से गर्भ स्थिर रहता है l 

नींद अधिक आना - जिसे नींद अधिक आती हो, हर समय नींद, आलस, सुस्ती में रहता हो l उसे 10 ग्राम सौंफ को आधा किलो पानी में उबालकर एक चौथाई पानी रहने पर थोड़ा सा नमक मिलाकर सुबह शाम 5 दिन पिलाये l इससे नींद कम आएगी l 

गहरी नींद कैसे ले

नींद कम आना - 10 ग्राम सौंफ आधा किलो पानी में उबाले चौथाई पानी रहने पर छान कर गाय का 250 ग्राम दूध और 15 ग्राम घी दोनों स्वादनुसार चीनी मिलाकर पिलाये l 

गौरी संतान का जन्म - गर्भकाल में नौ महीने तक खान-पान के बाद नित्य सौंफ चबाते रहने से गौरी रंग की संतान पैदा होती है l 

कब्ज रोग - (1) चार चम्मच सोगी एक गिलास पानी में उबाले जब आधा पानी रह जाये तो छान कर पीये कब्ज दूर हो जायेगा l

(2) सोते समय आधा चम्मच पीसी हुई सौंफ की फंकी गर्म पानी से लेने से कब्ज दूर होती है l

(3) सौंफ, हर्र, शक्कर प्रत्येक आधा चम्मच मिलाकर, पीसकर गर्म पानी से फांकी ले l 

धूम्रपान - यदि आप सिगरेट, बीड़ी पीना छोड़ना चाहते है तो सॉफ को घी में सेंक कर शीशी में भर ले l ज़ब भी सिगरेट पीने की इच्छा हो तो इस सौंफ को आधा आधा चम्मच चबाते रहे l सिगरेट पीने की इच्छा समाप्त हो जायेगी l मन पर भी सयम रखे l 

स्मरणशक्तिवर्धक - सौंफ को हलकी हलकी कूटकर ऊपर के छिलके उतारकर छान ले l इस तरह अंदर की मींगी निकालकर समान मात्रा में मिश्री मिलाकर पीस ले l एक एक चम्मच सुबह-शाम दो बार ठन्डे पानी से या गर्म दूध से फांकी ले l इसके सेवन से स्मरणशक्ति बढ़ती है l मस्तिष्क में शीतलता रहती है l 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां