Advertisement

header ads

खाली पेट गन्ने का जूस पीने के के फायदे - स्वास्थ्य पत्रिका

गन्ना एक फसल है जिसे किसान द्वारा खेती की जाती है l गन्ना का इंग्लिश नाम (sugarcane) है तथा वैज्ञानिक नाम - सैकेरम औफिसिनेरम (Saccharum officinarum) है l इसे ईख, साँठा भी कहते हैं। गन्ना, ज्वार, मक्का की तरह होती है l  गन्ना की खेती भारत में होती है l गन्ना को छील कर चूसा जाता है l बहुत मीठा रस निकलता है l गन्ना से रस निकाल कर शक्कर, गुड़ बनाये जाते है l 

खाली पेट गन्ना का जूस पीने के फायदे
खाली पेट गन्ना का जूस पीने के फायदे

गन्ने का रस पीने से क्या फायदे - What are the benefits of drinking sugarcane juice

रोजाना गन्ने का रस पीने और चूसते रहने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है। गन्ने का रस बहुत ही फायदेमंद और गुणकारी रस है l गन्ना भोजन पचाता है, कब्ज दूर करता है, शक्तिदाता है। शरीर मोटा करता है। पेट की गर्मी, हदय की जलन को दूर करता है।

गन्ना में पाये जाते है विटामिन और पोषक तत्व - Vitamins and nutrients are found in sugarcane

इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नेशियम और फॉस्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं l  गन्ने का  रस पीने से खांसी दूर होती, कृमि नष्ट हो जाती है, गर्मी काम होती है, रक्तशुद्धि होती है l पीलिया में गन्ना बहुत फायदा करता है l इनसे हड्डि‍यां मजबूत बनती हैं और दांतों की समस्या भी कम होती है. गन्ने के रस के ये पोषक तत्व शरीर में खून के बहाव को भी सही रखते हैं l


गन्ना के रस घरेलु उपचार के रूप में भी काम लिया जाता है तथा औषधि गुण पाये जाते है l आइये जाने गन्ने से कौन कौन सी बीमारियों में गन्ने से उपचर कियक जा सकता है l


गन्ना खाने के फायदे, घरेलु उपचार

गन्ना के रस सेवन और घरेलु उपचार  - Sugarcane juice consumption and home remedies

कुकर खाँसी - कच्ची मूली का रम एक छटाक (60ग्राम) एक गिलास गन्ने के रस में मिलाकर दिन में दो बार पिलाने से लाभ होता है ।

सुखी खाँसी - एक गिलास गरन्ने का रस नित्य दो बार पीने से सूखी खाँसी में लाभ होता है। छाती की घबराहट जाती रहती है।

रक्तातिसार  - एक. कप गन्ने के रस में आधा कप अनार का रस मिलाकर सबह-शाम पिलाने से रक्तातिमार मिटता है।

पथरी रोग - पथरी ईख चूसते रहने मे पथरी टुकड़े-टुकड़े होकर निकल जाती है। गन्ने का रस भी लाभदायक है।

धीमाबुखार - बुखार में गन्ने का रस एक गिलास रोज दो बार सुबह-शाम पीना लाभदायक है।

रक्त विकार - खाने के बाद एक गिलास गन्ने का रस पीने से रक्त साफ होता है। गन्ना नेत्रों के लिए लाभकारी है ।

पित्त की उलटी - पित्त की उलटी होने पर एक गिलाम गन्ने के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर पिलाने से लाभ होता है। हिचकी गन्ने का रस पीने से बन्द हो जाती है ।

पीलिया - जौ का सत्तु खाकर ऊपर से गन्ने का रस पीयें। एक सप्ताह में पीलिया ठीक हो जायेगा। सुबह सुबह गन्ना चूसें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां